श्री चित्रगुप्त जी का मंत्र

मषीभाजनसंयुक्तश्चरसि त्वं ! महीतले ।
लेखनी- कटिनीहस्त चित्रगुप्त नमोऽस्तुते ॥
चित्रगुप्त ! नमस्तुभ्यं लेखकाक्षरदयकम् !
कायस्थजातिमासाधा चित्रगुप्त ! नमोऽस्तुते ॥!

ध्यानं

शान्ताकारं कमलनयनं , चित्रगुप्त सुरेशम ।
विश्वाधारं गगन सदृशं , मेघवर्णं शुभाग्ड़म ॥
इरावती दक्षिणा कान्तं ,योगिभिध्यनि गम्यम ।
वन्दे चित्र धर्मराज , सर्व लोकंक नाथम ॥

आवाहन

ॐ आगच्‍छ भगवन्‍देव स्‍थाने चात्र स्थिरौ भव ।
यावत्‍पूजं करिष्‍यामि तावत्‍वं सन्निधौ भव ।
ॐ भगवन्‍तं श्री चित्रगुप्‍त आवाहयामि स्‍थापयामि ।।
दोनो हाथ जोडकर प्रभु चित्रगुप्‍त जी से प्रार्थना कीजिये के हे प्रभु जब तक मैं आपकी पूजा करूं तबतक प्रभु आप यहां विराजमान रहिये।